Thoughts by Dr. Pari

April0321, 01:34PM 
“In the morning when I opened my window to let the sunrays come in the room, I saw lovely wild flowers opened their petals one by one in my yard. They all bloomed in their brightest colors. Just imagine, What a lonely place it would be to have a world without wildflowers. The wild flowers that some calls weeds, and I considers beautiful ground cover. I like wildflowers too, I explain why? They just grow wherever they want. No one has to plant them. And then their seeds blow in the wind and they find a new place to grow. They have freedom and even they have the toughest roots. They are happy the way they are and they would not want a name or an identity. How lavishly are the flowers scattered over the face of the earth! One of the most perfect and delightful works of the Creation, there is yet no other form of beauty so very common. Love them." Dr. Pari😍🌺
 
April0221, 8:54PM 
This morning, I was ready with my jacket on. I placed my hands into my pockets and as I did my right hand came in contact with something dry and crinkled. Taking it in my fingers I withdrew my hand and saw a brown and wilted leaf. For just a moment I tried to remember how a leaf had found its way into my pocket, or why I would have deliberately put it there? It had been months since I last wore this jacket. Suddenly, the memory returned, I recalled the previous Spring. This had been the very first Spring leaf that appeared on the ornamental maple tree I had planted a few years before. I sat down on the frosty ground next to the maple tree. I said a silent prayer, and told how much I care for you. I used to worry about you a lot when it snowed. I missed you. In every change, in every falling leaf there is some pain, some beauty. And that's the way new leaves grow. There is another alphabet, whispering from every leaf, singing from every river, shimmering from every sky. Welcome back Spring!” Dr. Pari😍
 
March3021, 5:31 pm 
 
मैं ही महान हूँ, ऐसा क्यों? 
I am great, why?
They suffer from inferiority complex.
They consider themselves high.
Is full of ego.
Could not get anything in life.
I have often found that people promote themselves by stealing others work. 
By imitating the work of others, they take wows.
Do not give importance to other's work.
Such people are selfish.
Just know how to steal it from another.
But they do not know how to return.
Satisfy the ego. 
 
हीन भावना से ग्रस्त होते है। 
अपने आपको ऊँचा समझते है। 
अहंकार से भरे हुए है। 
कुछ ना पा सके जीवन में।  
मैने अक्सर ऐसा पाया है की लोग दूसरे का चोरी करके अपने आपको आगे बढ़ाते है। 
दूसरे के काम की नक़ल करके आप वाह वाह लेते है। 
दूसरे के काम को महत्त्व नहीं देते है। 
ऐसे लोग स्वार्थी होते है। 
बस उसको दूसरे से लेना ही आता है। 
लेकिन वापिस करना नहीं आता है। 
अहंकार को शांत करते है।  
 
 
March3021, 5:19 pm 
 
 
न हि ज्ञानेन सदृशं पवित्रमिह विद्यते |
तत्स्वयं योगसंसिद्धः कालेनात्मनि विन्दति || 4.38 ||
 
Translation:
 
There is nothing in this world more sacred than the Divine knowledge. Whoever personally achieves success in this yoga (of Divine knowledge) realizes this truth in his self in due course of time.
 
इस संसार में दिव्यज्ञान के समान कुछ भी उदात्त तथा शुद्ध नहीं है | ऐसा ज्ञान समस्त योग का परिपक्व फल है | जो व्यक्ति भक्ति में सिद्ध हो जाता है, वह यथासमय अपने अन्तर में इस ज्ञान का आस्वादन करता है |
 
The knowledge is the key to open the door to the wisdom, prosperity, and happiness.  The knowledge is power. The person with knowledge can have the control over the situation, over its life. Look around yourself, the scientific discoveries made our life so much different than we used to live past thousands of years, and it is all about knowledge. We live longer than before due to medical revolution, we have great facilities that no one could think few decades before due to a scientific revolution.
Mankind has an immense thirst for the knowledge, and it made them unbeatable in this world. Our Rishis (Ancient Monks) considered the knowledge as a gift from God. In the other hand, the ignorance is the curse. The man with improper knowledge or no knowledge can be very dangerous for himself and the society. While other hands, Knowledge can make you lead the society.
That is why education is very important. Education has a power that can cure the poverty. Education has the power that can make a better society. For the rising country like India, Education is the most necessary thing. But the other problem India facing is the lack of good teachers. The teacher or The guru can help you to learn new things and also filter them with the sieve of morality. Because the person with knowledge but without morality could be dangerous. And our history had witnessed such situation as well.
Why are some people more knowledgeable than you?
Knowledge is the product of curiosity. If you find something curious, you will try to gain more details about it, you will do google, will read books about it. And honest efforts of you will help you to increase the knowledge on that particular thing eventually. But you never feel curiosity anymore, right?. If you remember, when you were a child, you used to ask many questions to your parent or teacher. But as you brought up, you became more and more materialistic, you killed the innocent child within you, you killed the same curiosity that represents you.
You know why Lord Krishna explained Bhagavad Gita only to Arjuna, not Bhima or Yudhisthira or any other great Worriers. Because Arjuna asked the questions. Simple, Isn’t it? Ask a question, Be curious.
Who seeking knowledge, will gain knowledge.
- Lord Krishna, Bhagavad Gita
http://bhagavadgita.cipherhex.com/importance-of-knowledge/
 
 
Mar3021, 4:52pm 
 
लोग तारीफ नहीं करते, क्यों? 
वो भरे हुए नहीं है। 
आपसे नफरत करते है। 
आपसे जलन करते है। 
आपसे आगे जाना चाहते है। 
आपके शुभचिंतक नहीं है। 
आपको पीछे देखना चाहते है। 
आपको दुखी देखना चाहते है। 
आपके बराबर आना चाहते है। 
दुनिया से दुखी हो। 
अपने परिवार से दुखी हो। 
जीवन में कुछ खोया होगा। 
कोई अधूरा सपना रह गया होगा। 
उनकी शिक्षा ही ऐसी है। 
तारीफ का मतलब नहीं जानते है। 
आपसे चिढ़ते है। 
अंगूर खट्टे भी हो सकते है। 
पत्नी या पति से खुश नहीं है। 
बच्चो के कारन दुखी है। 
प्रेमी या प्रेमिका के कारन दुखी है। 
आप खुश रहे। 
दुनिया में किसी की परवाह नहीं करे। 
दुनिया बेरहम है। 
आप हसोगे तो कहेगी क्यों हसते हो। 
आप रोते है तो कहेगी क्यों रोते हो। 
इसलिए किसी की तरफ ना देखो। 
और जिस काम से ख़ुशी मिलती है। 
वो काम करो। 
किसी को अपने काम से दुखी ना करना। 
किसी से परेशानी है तो उससे दूर हो जाओ। 
यही खुश रहने का इलाज है। 
My thoughts - Dr. Pari 

 

May22, 2020 6:13PM

"Spring has arrived and so will happiness.
Hold on. Life will get warmer soon."
Stay safe & Keep walking - Dr. Pari🇺🇸 🕉

 

May22, 2020 6:13PM

"Do you believe this."
All these flowers belong to the fruit tree.
The beautiful fruits that we eat are beautiful flowers behind them.

 

May22, 2020 6:13PM

"Happiness is feeding birds."
Every day when I see these two bluebirds "Blue Jay" in my yard, It is very heartening to see this when both birds take grain in their beaks and take them to their nests on the tree above for babies.

 

May22, 2020 6:13PM

"Regrets are only felt by those who do not understand life's purpose." Tiger's VoyageColleen Houck

 

May22, 2020 6:13PM

"Wounds turn into scars and scars make you tough."
Aisha Tyler

 

May22, 2020 6:13PM

“There are only two ways to live your life. One is as though nothing is a miracle. The other is as though everything is a miracle.”
― Albert Einstein

 

May22, 2020 6:13PM

“A human being is a part of the whole called by us universe, a part limited in time and space. He experiences himself, his thoughts and feeling as something separated from the rest, a kind of optical delusion of his consciousness. This delusion is a kind of prison for us, restricting us to our personal desires and to affection for a few persons nearest to us. Our task must be to free ourselves from this prison by widening our circle of compassion to embrace all living creatures and the whole of nature in its beauty.”
― Albert Einstein

 

May22, 2020 6:13PM

Beautiful apple trees in our front - yard.🍎🍏
I've seen spring come to the orchard every year as far back as I can remember and I've never grown tired of it. Oh, the wonder of it! The heavenly beauty! God didn't have to give us cherry blossoms you know. He didn't have to make apple trees and peach trees burst into flower and fragrance. But God just loves to splurge. He gives us all this magnificence and then if that isn't enough, He provides fruit from such extravagance.
Dr. Pari🇺🇸 🕉

 

May22, 2020 6:13PM

Life will break you. Nobody can protect you from that, and living alone won't either, for solitude will also break you with its yearning. You have to love. You have to feel. It is the reason you are here on earth. You are here to risk your heart.

Louise Erdrich

 

May22, 2020 6:13PM

🙏My salute to all the Teachers, Professors, Gurus, Preachers, and Tutors around the world. Teachers, I believe, are the most responsible and important members of society. Don't forget that no matter what accomplishments you achieve, somebody helped you. Teaching is the essential profession, the one that makes all professions possible. Teaching is the greatest act of optimism. Teachers, who educate children, deserve more honor than anyone else in the world, who merely gave them birth; for the latter provided mere life, while the former ensured a good life.
Dr. Pari🇺🇸 🕉

 

May22, 2020 6:13PM

"Without rain, nothing grows, learn to embrace the storms of your life."

 

May22, 2020 6:13PM

🇺🇸MY PASSION🇺🇸
"Front yard - every morning I make sure that all the bird feeders are full of grains. I don't feed the birds because they need me; I feed the birds because I need them.” “Feeding birds means feeding yourself! Birds are part of nature and feeding nature is nothing but feeding yourself!”

 

May22, 2020 6:13PM

🕉P☸️E🕎A✝️C☪️E🇺🇸
🕉BGeeta 2:66 "For one who never unites the mind with God there is no peace."
☸️Buddha “Peace comes from within. Do not seek it without.”
🕎Hebrews 12:14 "Make every effort to live in peace with everyone and to be holy; without holiness, no one will see the Lord."
✝️Psalm 34:14 "Turn away from evil and do good; seek peace and pursue it."
☪️Qur'an 59:23 "Peace is one of the names of God Himself."
🇺🇸Sikhism "The Guru repeats the word "simar" three times. Only by doing Simran (meditating on God) can one obtain real Sukh (peace)."

 

May22, 2020 6:13PM

हीन भावना से ग्रसित लोग हमेशा दूसरे को नीचा दिखा कर अपने अहंकार को छुपाते है। People with inferiority complex always hide their ego by degrading the other.

 
May22, 2020 6:13PM
Children reared in households where they were constantly criticized or did not live up to parents' expectations may also develop an inferiority complex.
 
May22, 2020 6:13PM
An inferiority complex occurs when the feelings of inferiority are intensified in the individual through discouragement or failure. 
हीन भावना तब होती है जब हतोत्साह या असफलता के माध्यम से व्यक्ति में हीनता की भावनाएँ तेज होती हैं।
 
March03, 2020 2:17PM
Be a bit careful for what you pray for. If you're praying for health, wealth, happiness, for you or your family member, it's always best to approach Krishna. That show of dependence is both accurate and helpful for making spiritual advancement.
 
 
Jan05, 2020 1:03PM 
Happy New Year! 
From- Pari and family 
 
 

Nov0419, 12:19 PM

By: Pari 

इंसान की कमजोरी होती है उसके कारन लोग उसका फ़ायदा उठाता है। अपनी कमजोरियों पर काम करे और एक मजबूत इंसान बने। 

 
Humans have weaknesses that is why people take advantage of them. Work on your weaknesses and become a strong person.
 
 
Nov0119, 01:43 PM
 
Who am I? Not the body, because it is decaying; not the mind, because the brain will decay with the body; not the personality, nor the emotions, for these also will vanish with death.
 
मैं कौन हूँ? शरीर नहीं, क्योंकि यह सड़ रहा है; मन नहीं, क्योंकि शरीर से मस्तिष्क का क्षय होगा; न व्यक्तित्व, न ही भावनाएं, इनके लिए भी मृत्यु के साथ गायब हो जाएगा।
 
Ramana Maharshi
 
 
Nov0219, 01:39 PM

Think of God; attachments will gradually drop away. If you wait till all desires disappear before starting your devotion and prayer, you will have to wait for a very long time indeed.

ईश्वर के बारे में सोचो; आसक्ति धीरे-धीरे दूर हो जाएंगे। यदि आप अपनी भक्ति और प्रार्थना शुरू करने से पहले सभी इच्छाओं के गायब होने तक इंतजार करते हैं, तो आपको वास्तव में बहुत लंबे समय तक इंतजार करना होगा।

				

Ramana Maharshi

 

Nov0219, 01:36 PM 

The time you spend alone with God will transform your character and increase your devotion. Then your integrity and Godly behavior in an unbelieving world will make others long to know the Lord.

 

जिस समय आप भगवान के साथ अकेले बिताते हैं वह आपके चरित्र को बदल देगा और आपकी भक्ति में वृद्धि करेगा। फिर एक अविश्वासी दुनिया में आपकी ईमानदारी और ईश्वरीय व्यवहार दूसरों को प्रभु को जानने में लंबा कर देगा।

Charles Stanley

 
July1319, 09:46 PM
Who is real Guru?
Many are called (or call themselves) “guru,” but very few are the real, or true Guru, as he (or she) is described in the Scriptures. The true guru is a Sat-Guru, who knows his Self to be one with God. There is no trace of ego left in him, no sense of “I”, of “I am this person.” His consciousness is infinite, his inner state is perennial nirbikalpa samadhi.
Imagine a clean window, with the sunlight shining through it in all its brightness. The Guru is that window. The sun is God. God shines fully through a true Guru (Sat-Guru), with all His power. Such a Sat-Guru alone can free the soul.
 
 
July1319, 09:46 PM
WHY PRAY?
1. BUILDS OUR RELATIONSHIP WITH GOD
2. HELPS US OVERCOME TEMPTATION
3. HELPS US DETERMINE GOD’S WILL
4. PRAYER ACCOMPLISHES GOD’S WORK
5. A WEAPON OF SPIRITUAL WARFARE
6. A PREREQUISITE TO SPIRITUAL AWAKENING
7. PRAYER IS VALUABLE TO GOD
 
 
May2619, 12:11 PM
कर्म योगी बने। 
दया प्रेम सहायता भावना आंसू ये सभी गुण मानवता कहलाते हे | संसार मे इतने जीव जंतु हे लेकिन मानव में दिमाग और सोच होती हे |वैसे आजकल जानवरो में मानवता दिख जाती हे और इंसान में पशुता |
मानव वही है जो दूसरे जीव को दूसरे मानव को अपने ही तरह समझे। 
जो दूसरे के दुःख को अपना ही दुःख जाने और उसकी मदद करे।  
आज का मानव स्वार्थी होता जा रहा है। 
आज के मानव ने अपने स्वार्थ के लिए प्रकृति के साथ छेड़छाड़ की है। 
आज का मानव ने बहुत तरक्की की है लेकिन भगवान् बनने की इच्छा कर बैठा है। 
आज का मानव ज्योतिष विद्या का ज्ञान लेकर अपने आपको भविष्य बताकर भगवान् बनना चाहता है। 
अगर मानव किसी का भविष्य बता सकता तो वो मानव किसी के जन्म और मृत्यु क्यों नहीं रोक सकता। 
ईश्वर के हाथ में जन्म और मृत्यु है और एक बीज से पौधा उगता है ये किसी भी मानव के हाथ में नहीं है। 
अगर ये किसी मानव के हाथ में नहीं है तो फिर मानव किसी के भविष्य को कैसे जान सकता है। 
जो सिद्ध पुरुष होते है उनके जीवन की पवित्रता और तपस्या के कारन वे भविष्यवाणी करते है जो सत्य होती है। 
लेकिन मांस खाने वाले, सभी तरह का लालच रखने वाले, जीवन में किसी के लिए कैसे मार्गदर्शक बन सकते है। 
वो रास्ता दिखा सकते है लेकिन जीवन में किसी के लिए दीपक नहीं बन सकते।  
जीवन में सच्चा व्यक्ति वही है जिसने अपने जीवन में ५ इन्द्रियों पर काबू पा लिया हो। 
मैंने देखा है की आज के जीवन में सभी थोड़ा सा ज्ञान प्राप्त करके योग के गुरु, वास्तु गुरु कई प्रकार के गुरु बन जाते है और लोगो को भ्रमित करते है। 
जो भी कमजोर दिमाग वाले लोग होते है वो ऐसे लोगो के साथ जुड़ कर अपने जीवन के अमूल्य पल बर्बाद करते है। 
जब काम बन जाता है तो वो लोग उनके भगवान् बन जाते है। 
जब काम नहीं बनता है तो वो ही लोग उनकी बुराई करते है। 
अगर आप किसी को किसी भी प्रकार से गुरु मानते है तो फिर अपने जीवन के अंत तक उसको मानिये चाहे आपको सफलता मिले या ना मिले। 
कभी इधर कभी उधर होने के कारन किसी एक पर विश्वास नहीं बना पाते।  
इसका सीधा सीधा हल यह है की अपने कर्म करे, कर्म योगी बने और किसी बाहरी ताकत का सहारा ना ले। 
किसी बाहरी ताकत का सहारा नहीं लेंगे तो आपको किसी से निराशा नहीं मिलेगी। 
सफलता और असफलता के लिए आप स्वयं कारन बनेगे तो आप अपने अंदर गुणों को पैदा करेंगे। 
अपने मुँह को खोल कर बैठ जाये और दूसरा इंसान आपके मह में भोजन डालता जाये ऐसा करने में निराशा हो सकती है। 
अपने हाथ से अपने मुँह में जब खाते है तो आपको पता है की कितना खाना है और गर्म है की ठंडा। 
किसी प्रकार के नुक्सान से अपने आपको बचा सकते है। 
इंसान की सबसे बड़ी हार ही वहा होती है जब इंसान किसी दूसरे पर निर्भर होता है।  
मेरा इतना ही कहना है की कर्म योगी बने और आप स्वयं तैरना जानते होंगे तो सागर पार कर सकेंगे। 
तैरना नहीं जानेंगे तो कश्ती पर और किसी और पर निर्भर रहेंगे तो डूबने के मौके ज्यादा हो सकते है। 
इसका मतलब ये नहीं की आप हवाई जहाज उड़ाने लग जाये। 
,मेरा कहने का मतलब है की जीवन में जितना हो सके अपने आपको स्वावलम्बी बनाये और कर्म योगी बन कर जीवन को सफल बनाये।  
कर्म करे और फल ईश्वर के हाथ में छोड़ दे। 
सांसारिक मनुष्य आपके भविष्य को अपने दिमाग से अपने रोजिका के लिए गुमराह भी कर सकता है। 
कर्म योगी बने। 
कर्म योगी बने। 
कर्म योगी बने। 
 
April2519, 12:03 PM
5 Reasons We Don't Let Ourselves Be Happy
1. It disrupts our sense of identity. 
2. It challenges our defenses. 
3. It causes us anxiety. 
4. It stirs up guilt. 
5. It forces us to face pain. 
 
Dec2718, 3:29 PM
"कम से कम धर्म का मज़ाक न उड़ाए" 
 
आज मैंने देखा की किसी ने एक भेस को कपड़े पहना कर कहा की ये राजस्थान का सांता।  
बहुत ही गलत बात है किसी के धर्म को जाने बगैर उसका मज़ाक उड़ाया जाये। 
जैसे हिन्दू के लिए लक्ष्मी माता होती है उसी प्रकार से पश्चिम देशो में सांता को पूजा जाता है। 
सांता सभी को अन्न, धन, धान, उपहार देते है। ऐसा उनका मानना है। 
मेरे को ऐसा लगता है की हिंदुस्तान में मुसलमान या ईसाई की कोई प्रॉब्लम नहीं है। 
हिन्दू ही हिन्दू के लिए प्रॉब्लम बना हुआ है। 
जब हम अपने ही आपस में मिलकर दूसरे का मज़ाक बनाते है फिर दूसरा तो जरूर मज़ाक करेगा।  
जब हम दूसरे को इज्जत देते है तो कैसे किसी की हिम्मत होगी की वो हमको बेइज्जत कर दे।  
हमारी बॉलीवुड की मूवीज में हमारे भगवान् को लेकर हमेशा मज़ाक किया जाता है।  
जितने भी कॉमेडियन है वो भी भगवान् का नाम अपने व्यंग में लेते है। 
जब दुश्मन ये सब देखता है और सुनता है तो कैसे वो इस काम में पीछे रह सकता है।  
कृपया करके जो भी भाई बहन माता पिता छोटे बड़े बच्चा बुजुर्ग ये पढ़ रहे है वे इस काम में अपने आपको कभी शामिल न होने दे।  
धर्म चाहे वो स्वयं का हो या किसी और का, सभी का पहला धर्म यही होना चाहिए की सभी धर्म को अपना धर्म मानकर इज्जत दे।  
 
Dec19 2018, 12:20 AM 
 
"इच्छा को भगाओ उसके पीछे ना भागो" 
 
अपनी इच्छा के पीछे हम भागते है।  
इसलिए इच्छा हमारा पीछा करती है।  
अपनी इस इच्छा को लेकर हम पता नहीं किस दिशा की तरफ बढ़ जाते है। 
और अपने कर्म रास्ते से भटक जाते है। 
बहुत बार देखा जाता है की इंसान अपनी इच्छा की पूर्ति करना चाहता है, 
लेकिन उसके लिए मेहनत नहीं करना चाहता। 
अपनी इच्छा की पूर्ति के लिए तंत्र मंन्त्र गलत सिद्धियों का प्रयोग करता है।  
ज्योतिष्याचार्य के चक्कर में फस जाता है। 
सीधा सरल मार्ग ईश्वर ने बनाया है इंसान के लिए उस राह को समझ नहीं पाता। 
सच्चाई के मार्ग पर चलते रहेंगे और किसी के दिल को नहीं दिखाएंगे ये एक मार्ग है।  
सत्य का मार्ग सबसे अटल मार्ग है जिस पर चलकर मंज़िल तक पहुँचने में देर हो सकती है। 
लेकिन एक दिन सफलता जरूर मिलती है।  
मनुष्य सूरज के ताप को नहीं रोक सकता है।  
मनुष्य चन्द्रमा की शीतलता को कम नहीं कर सकता है।  
मनुष्य ज़मीन में बोये बीज से रुपये नहीं उगा सकता है।  
एक साधारण मनुष्य मुर्दा शरीर में प्राण नहीं डाल सकता है।  
अगर मनुष्य ऐसा नहीं कर सकता तो फिर ऐसा मनिष्य हमारा भविष्य कैसे बता सकता है।  
ऐसा मनुष्य हमारे भविष्य के लिए कैसे हमको सलाह दे सकता है।  
जो स्वयं संसार के पीछे भाग रहे हो ऐसा इंसान किसी को कैसे किसी के लिए प्रेरणा बन सकता है।  
मनुष्य रूप में कोई भी हमको सिर्फ रास्ता दिखा सकता है लेकिन कर्म तो हमको ही करना होगा।  
हमारे तन को भूख लगी है और उस की भूख मिटाने के लिए हमको ही मुख से पेट में भोजन डालना होगा।  
तंत्र, मंत्र, ज्योतिष, वास्तु को अपना सहारा ना बनने दे और कर्म पर विश्वास करके अपने जीवन को सफल बनाये।  
अपने आपको किसी पर निर्भर होकर कमजोर न बनाये और अपने स्वयं के स्वाभिमान को बलवान बनाये।  
अपने अध्यातिमिक ज्ञान, भक्ति, शक्ति को इतना प्रबल बनाये की ये बाहरी शक्तिया कमजोर हो जाये कर्म के आगे।  
ऐसा करने के बाद देखे की अब आप इच्छा के पीछे नहीं भाग रहे।  
 
 
March 12, 2018, 10 :05 PM 
 
जलन आग से भी ज्यादा खतरनाक होती है
 
आग का जलना तो जलाकर राख कर देगी।  
अस्तित्व मिता देगी।  
दर्द को सहन करने की जरुरत नहीं होगी।  
सुख दुःख की भावना नहीं रहेगी।  
परन्तु जलन? 
ये एक ऐसी आग है जो 
जलायेगी भी 
रुलायेगी भी 
लेकिन ख़तम नहीं होने देगी 
रोज़ रोज़ मर मर कर जीने को मजबूर करेगी 
जलन? 
पडोसी को पडोसी से 
बहन को बहन से 
भाई को भाई से 
दोस्त को दोस्त से 
सभी रिश्तो में पायी जाती है 
जलन? 
वो आगे है मैं क्यों नहीं?
वो अच्छा जाता है मैं क्यों नहीं? 
वो सुन्दर है मै क्यों नहीं? 
वो खुश है मै क्यों नहीं? 
वो वो वो वो वो 
बस वो क्यों?
और मैं क्यों नहीं?
ये प्रश्न प्रश्न?
दूसरे की ख़ुशी में मेरी ख़ुशी क्यों नहीं? 
कोई जाता है?
झूले पर झूलता है 
नदी मैं तैरता है
पेड़ पर चढ़ता है 
कागज की नाव बनाता हैं 
मै क्यों नहीं कर सकता?
दूसरे को देख कर खुश हो 
या 
स्वयं उसको करने की कोशिश करे 
न करना है 
न खुश होना हैं 
दूसरा हँस क्यों रहा है 
मै भी तो हॅंस सकता हु
जब दूसरे को खुश देखकर ख़ुशी होगी 
हम करे न करे 
दुःख नहीं होगा 
संसार में दूसरे को खुश नहीं कोई देखना चाहता 
सबसे ज्यादा बदकिस्मत और दुखी कौन? 
जो दूसरे को खुश न देखकर खुश हो।  
यही हैं जलन।  
जो जलाकर इंसान को राख कर देती है।  
जीने नहीं देती न मरने देती हैं।  
हसने नहीं देती और रोने भी नहीं देती।  
आग की जलन से भी ख़तरनाक होती है 
जलन 
 
 
March 12, 2018, 10:01 AM 
 
शादी एक खेल बन गयी है 
 
कहाँ है वो दिन जब माता पिता अपने बच्चो के लिए वर या वधु ढूंढते थे।  
कहा है वो दिन जब सुना भी नहीं था की तलाक क्या होता है ?
कहा हैं वो दिन जब लड़का और लड़की अपने माता पिता के सामने अपने ही शादी की बात नहीं करते थे।  
किसी परिवार में रिश्ता टूट जाने की बाते कभी सुनी नहीं थी, कहा है वो दिन।  
खेल बन गया है आजकल ये सब कुछ।  
देखा और प्यार हो गया और दूसरे ही पल सब ख़त्म भी हो गया।  
कहा गयी वो भावनाये, जिसके कारन रोमियो जूलिएट, हीर राँझा, सोहनी महिवाल, लैला मजनू बने।  
कहा गया वो कृष्णा और राधा वाला प्यार।  
कहा गयी वो अमरचित्र कथा की प्यार भरी कहानियो की सच्चाई।  
कहा गयी वो ऋषियों के तप को भी भांग करने वाला प्यार और आकर्षण।  
क्या वो एक युग था जिसमे भावनाये थी।  
क्या वो एक युग था जिसमे इंसान के पास दिल था लेकिन साथ में भावनाये थी।  
कौन सा युग है ये जहा दिल सभी के पास है लेकिन भावनाये लिप्त है।  
प्यार के नाम पर बस वासनाये ही वासनाये है।  
कलियुग तो नहीं हो सकता है ये।  
क्यों की इस कलियुग में हम भी तो जी रहे है।  
इस कलियुग में अभी भी इंसान भावना रखते है।  
भावनाये रहित इंसान महा कलियुग में प्रवेश कर रहा है।  
जिसमे पिता अपनी ही बेटी का शोषण कर रहा है।  
पति अपनी ही पत्नी को पैसे के लिए उसकी हत्या कर रहा है।  
पति पत्नी एक दूसरे को धोखा दे रहे है।  
जब ऐसे संसार में एक बच्चा जनम लेकर युवा बनता है तो उसकी मानसिकता कैसी होगी? 
उसके लिए प्यार, शादी, दोस्ती सभी एक खेल है।  
किसी के ह्रदय को समझने की क़ाबलियत ऐसे इंसान में नहीं हो सकती।  
दुःख की बात है की जो देश अपने संस्कार और धर्म के लिए संसार में माना जाता है आज, 
वही देश रिश्तो के साथ धोखा करना और रिश्तो के साथ खेलने में माहिर हो गया है।  
जिस देश में माता पिता ने अपने बच्चो के लिए क़ुरबानी दी, 
जिस देश में पुत्र और पुत्री में अपना कर्त्तव्य निभा कर अपने माता पिता का नाम रोशन किया, 
जिस देश में इंसानिंयात को सबसे ऊपर देखा जाता है, 
आज उस देश में कैसे इंसान एक दूसरे का दुश्मन हो गया है।  
भावनाये कहा लिप्त हो गयी? 
ह्रदय तो मासूम और पवित्र हुआ करते थे।  
ये शादी कैसे खेल बन गयी? 
देश की प्रगति हो रही है।  
लेकिन धर्म और संस्कार लिप्त हो रहे है।  
पूजा पाठ सभी कर रहे है।  
अध्यात्म में कमी है।  
सब कुछ खेल बन गया है।  
अफ़सोस। 
 
 

Jan 03 18, 06:53 PM

आवश्यक नहीं है की ऐसा ही है।  
 
जो इंसान स्वयं ही इस संसार के रंग में रचा हुआ है तो दूसरे को वैराग्य कैसे सीखा सकता है।  
अच्छे और बुरे गृह के विषय में ज्ञान दे सकता है लेकिन चाँद और सूरज को निकलने से रोक नहीं सकता।  
वृक्ष को छोटा बड़ा किया जा सकता है लेकिन बीज अंकुरित होने से रोक नहीं लगा सकता।  
तन को काबू में कर सकता है लेकिन किसी के विचार को काबू में नहीं कर सकता।  
इंसान, इंसान का पालन पोषण कर सकता है लेकिन जन्म मृत्यु को वश में नहीं कर सकता है।  
इंसान के हाथ में कर्म है लेकिन सफलता और असफलता इंसान के हाथ में नहीं है।  
डॉक्टर दवाई दे सकता है लेकिन उससे फ़ायदा होगा ही ये वो स्वयं नहीं बता सकता।  
बादल गरजता है लेकिन वर्षा होगी ही ऐसा आवश्यक नहीं है।  
पुस्तक खरीद कर सभी ला सकते है लेकिन जरुरी नहीं की सभी उससे ज्ञान प्राप्त करेंगे।  
मंदिर में पुजारी अपनी सेवा देते है लेकिन जरुरी नहीं की वो प्रभु को प्राप्त होगा ही।  
लोग मंदिर बना लेते है लेकिन आवश्यक नहीं की वो भक्त हो।  
 
 
Jan 03 18, 06:34 PM
 
९ ग्रह को काबू करने की चिंता छोड़ दे। 
 

९ ग्रह होते है और इंसान स्वयं १० वा ग्रह है। 
९ ग्रह को काबू करने की चिंता छोड़ दे। 
इंसान स्वयं के इन्द्रियों पर काबू पा सकता है। 
और आपने जीवन को सफल बना सकता है।

अपने आपको अनुशाषित रखे। 
कर्म में एकाग्रचित रहे। 
प्रभु पर विश्वास करे। 
सत्मार्ग पर चले। 
आत्मविश्वास बनाये रखे। 
दृढ निश्चय रखे। 
सकरात्मत्क बने रहे। 
हिम्मत नहीं हारे। 
दुखी न हो। 
प्लान बनाये। 
छोटा छोटा कदम ले। 
हारने से न डरे। 
कोशिश करते रहे। 
समय की कीमत समझे। 
सपने देखे। 
स्वयं को प्रेरित करे। 
असफलता से सीख ले। 
नामुमकिन कुछ नहीं है। 
ईमानदार रहे। 
प्रकृति से जुड़े रहे। 
व्यवहार कुशल बने। 
वर्तमान में जिए। 
अच्छे मित्र बनाये। 
ध्यान, योग करे। 
सफलता को याद रखे। 
बुरे दिन भुला दे। 
शौक को ज़िंदा रखे। 
आत्मनिर्भर बने। 
नियम से चले।
कड़वा न बोले। 
सबका हित सोचे। 
सभी के प्रिय बने। 
स्वार्थी न बने। 
संयम रखे। 
दयावान बने। 
मस्त और खुश रहे।

सफलता जरूर कदम चूमेगी।

 

December 10 17, 11:03 PM

Top 10 Reasons Why You Should Not Believe in Psychic Powers?
 
JUST Believe in Yourself and Your Karma. Have Faith in Divine Power. Do not go after the man made Psychic Powers. Those who are emotionaly weak and have lack of confidence, need support of psychic powers. This is obvious.
 
https://listaka.com/top-10-reasons-not-believe-astrology/
 
 
December 10 17, 10:32 PM
 
What is Religion?
 
Religion is the set of beliefs, feelings, dogmas and practices that define the relations between human being and sacred or divinity. A given religion is defined by specific elements of a community of believers: dogmas, sacred books, rites, worship, sacrament, moral prescription, interdicts, organization. The majority of religions have developed starting from a revelation based on the exemplary history of a nation, of a prophet or a wise man who taught an ideal of life.


A religion may be defined with its three great characteristics:

  1. Believes and religious practices
  2. The religious feeling i.e. faith
  3. Unity in a community of those who share the same faith: the Church. It is what differentiates religion from magic.

The study of disappeared or existing religions shows the universal character of this phenomenon and a very large variety in the ritual doctrines and practices.
One generally distinguishes the religions called primitive or animists, the Oriental religions (Hinduism, Buddhism, Shintoism, Confucianism, Taoism...) and the religions monotheists derived from the Bible (Judaism, Christianity, Islam). Christianity has itself given birth to several religions or Christian Churches (Catholic, Orthodox, Protestant, Evangelic...)

 

December 10/17, 10:21 PM
 
What is a Spiritual Experience?
 
Going to the ocean or to the mountain and seeking an experience may be beautiful, you must enjoy the world the way it is, but you must understand, the fish in the ocean doesn’t think it’s a spiritual experience, nor does the mountain goats think the mountain is a spiritual experience because they are there all the time. If you bring them to the city, they may think it’s a spiritual experience. It is the breaking of the barrier within you – something broke within you. You were in a shell. This broke and became a bigger shell. What I’m saying is, if you get used to the bigger shell, it feels the same way as the previous one.
 
So if you want to become boundless and you are trying to attempt it through physicality, you are essentially trying to go towards boundlessness in installments. Can you count 1, 2, 3, 4, 5 and one day count to infinity? You will only become endless counting. That’s not the way. Through physical means, you can never reach towards boundless nature. Every human being is looking to become boundless. If you give him whatever he wants, for three days he is okay. The fourth day he is looking for something else. Somebody may label it as greed, I just say this is life process in the wrong direction. If you want to know boundless nature, you must experience, you must perceive something which is beyond the physical. Something you might have touched when you jumped into the ocean, when you saw a mountain, when you sang a song, when you danced, when you closed your eyes, in so many ways it could have happened to an individual. You touched it, but now the question is of sustainability.
 
 
 
December 10/2017, 10:11 PM
 
Does Belief in God Make You Spiritual?
 
An atheist cannot be spiritual. But you must understand that even a theist cannot be spiritual. Because an atheist and a theist are not different. One believes there is God, another believes there is no God. Both of them are believing something that they do not know. You are not sincere enough to admit that you do not know, that’s your problem. So theists and atheists are not different. They are the same people putting up an act of being different. A spiritual seeker is neither a theist nor an atheist. He has realized that he does not know, so he is seeking.
 
The moment you believe something, you become blind to everything else. The whole conflict on the planet is not between good and evil as they are trying to project it. It is always one man’s belief versus another man’s belief. The need for belief is more psychological than spiritual. You want to cling to something, you want to feel secure, you want to feel like you know it all. That is coming from a very immature mind. What is the problem if you don’t know anything about this existence. You actually don’t know anything. It’s beautiful! And you see how to make yourself beautiful and joyful within yourself, which is within your hands.
 
 
August 28/17, 12:53 AM
 
मंदिर क्या होते है ?
 
ऊँची बड़ी ईमारत जिस पर सोने का गुम्बद लगा हो और उस ईमारत के अंदर सुन्दर मार्बल लगा हो, सुन्दर सुन्दर मूर्ती हो जिस पर सोने, चांदी, मूंगे, जवाहरात से बने गहने जड़े हो।  उन मूर्ती पर जिनको भगवान् कहा जाता है उनके शरीर पर सिल्क के वस्त्र होते है।  मंदिर में सुन्दर वस्त्र पहन कर पंडित जी बैठे हो।  रसोई घर में पकवान होता है जो भक्त लोग प्रसाद समझ कर ग्रहण करते है।  उस मंदिर में भक्त जाकर अपने मन की कामना की पूर्ति के लिए दान करते है।  पंडित से पूजा अर्चना करवाते है अपने कार्य की सिद्धि के लिए।  यही एक मंदिर की परिभाषा है आम जनता के लिए।  
 
मंदिर वास्तव में क्या थे और उनका महत्व क्या है इस विषय में किसी ने कभी कोई ध्यान ही नहीं दिया।  सभी अपने अपने जीवन में इतने व्यस्त है की अपने स्वार्थ के लिए जितना उनको जरुरत है उतनी प्राप्ति हो जाती है तो बस उसमे ही संतुष्ट हो जाते है।  लेकिन जिस व्यक्ति को अपना निज स्वार्थ नहीं और जन हित के विषय में सोचता है वो मनुष्य उससे ऊपर और उसके आगे सोचता है।  
 
अगर एक बगीचे में माली बाबा एक वृक्ष लगाता है आम का और ये उम्मीद लगा कर उसको सींचता है की कल इसमें आम आएंगे जिनको सभी लोग खाएंगे और आनन्द लेंगे।  अगर वो वृक्ष आम का है ही नहीं और दिखाई देता है आम की तरह तो न कभी आम लगेंगे और उसकी की गयी मेहनत भी व्यर्थ हो जाएँगी। इसलिए जरुरी है की शुरुवात से ही गलती न हो।  
 
इसी प्रकार हम जिसको मंदिर कहते है उस मंदिर की शुरुवात ही गलत होगी तो उसकी दिशा भी गलत ही हो जाएगी।  
 
आज से ५००० वर्ष पहले मंदिर क्या होते थे? जो भी हमारे ऋषि मुनि जिस स्थान पर बैठ कर प्रभु का ध्यान लगाते थे. उस स्थान पर बैठ कर तप करते थे उस स्थान पर एक आध्यात्मिक शक्ति जागृत हो जाती थी।  वो स्थान पवित्र हो जाया करता था।  जिन लोगो के घर में प्रभु के लिए स्थान बनाया जाता था उस स्थान पर जितना अधिक जप तप हुआ करता था वो स्थान एक मंदिर का रूप ले लेता था।  इस तरह धीरे धीरे वह स्थान पूज्यनीय हो गए।  लोगो का यह मानना होता था की परेशानी के वक़्त ऐसे स्थान पर जाकर मन को शांति मिलती थी।  इस तरह मंदिर का नाम दे दिया और उस स्थान को पवित्र माना जाने लगा।  
 
समय के साथ साथ इंसान ने उस स्थान को ऊँची ईमारत का स्थान दे दिया।  
 
लेकिन देखा ये गया है की आज के दौर में जिसको मंदिर कहा जाता है वो ईमारत ज्यादा लेकिन मंदिर कम हो गए है।  क्यों की उस स्थान का महत्व बढ़ गया है लेकिन दिशा बदल गयी है।  
 
मंदिर का जो उद्देश्य है अगर उस उद्देश्य की दिशा बदल जाती है तब वह मंदिर नहीं एक ईमारत बन कर रह जाता है।  
 
मंदिर का स्थान पवित्र स्थान होता है।  मंदिर वो होते है जहा पर प्रभु का वास होता है।  प्रभु का वास तो कण कण में है लेकिन मंदिर का निर्माण इसलिए होता है की इंसान अपने व्यस्त जीवन में से कुछ पल निकल कर प्रभु का ध्यान कर सके।  अगर इंसान अपने मार्ग से भटक गया है तो मंदिर में बैठ कर शांत मन से उसको प्रेरणा मिलती है। अच्छा बुरा का निर्णय लेने में आसानी होती है। इस संसार में हम क्यों आये है और हमारा क्या कर्तव्य है इसका अहसास होता है।  एक सही दिशा का ज्ञान होता है।  मन में सदाचार की भावना उत्पन्न होती है। मंदिर में बैठा हुआ पुजारी शांत है, प्रभु भक्ति में लगा हुआ है सो उसके पास बैठ कर मन में शांति आती है।  क्यों की वह पंडित एक सात्विक व्यक्ति है, जो समाज से दूर, संसार के मोह माया से दूर होकर प्रभु की भक्ति में लगा हुआ है।  जितना उसके जीवन में प्राप्त है उसमे ही वो संतुष्ट है।  कभी किसी को हानि नहीं पहुँचता और सबके हित के लिए ही सोचता है।  
 
अब सोचिये, मंदिर में बैठा पुजारी अगर मांस का सेवन करता  है, अपने आपमें संतुष्ट नहीं है।  मोह माया के जाल में फसा हुआ है तब ऐसा व्यक्ति एक साधारण मनुष्य को कैसे शांति दे सकता है।  जो स्वयं ही राजसिक और तामसिक मार्ग में लगा हुआ है तो ऐसा व्यक्ति किसी को सात्विक मार्ग कैसे दिखा सकता है।  
 
जिस स्थान पर प्रभु की भक्ति कम और सिर्फ धन को प्राथमिकता दी जाती हो ऐसे स्थान पर जाकर कैसे प्रभु की भक्ति हो सकती है क्यों की धन और भक्ति तो एक स्थान में कभी भी हो नहीं सकते है। 
 
इन सब बातो के कहने का तात्पर्य यही है की मंदिर होने चाहिए लेकिन मंदिर का उद्देश्य भी सही होना चाहिए।  
 
अगर हमको बीमारी का इलाज करवाना है और हम अस्पताल जाते है।  वहा डॉक्टर बीमारी का इलाज न करके उल्टा बीमारी और बढ़ जाने का काम करेगा तो वो स्थान अस्पताल नहीं होगा।  अगर पाठशाला में बच्चा जाता है पढ़ाई करने और वहा से बच्चा गलत बाते सीख कर आता है तो वह स्थान पाठशाला नहीं होगा।  इसी प्रकार मंदिर जिस उद्देश्य के लिए बने है अगर उस दिशा में नहीं है तब मंदिर का होना और न होना बराबर है।  
 
मंदिर का उद्देश्य बनाये रखने के लिए आवश्यकता है की मंदिर में बैठा पुजारी सात्विक हो।  
मंदिर के स्थान को पवित्र बनाये रखने के लिए वहा किसी प्रकार के तामसिक कार्य न हो।  
मंदिर में प्रभु के नाम का ही गुणगान होना आवश्यक है।  
मंदिर में किसी प्रकार का भेदभाव नहीं होना चाहिए।  
मंदिर में किसी भी व्यक्ति को धन दौलत से छोटा बड़ा नहीं माना जाना चाहिए।  
मंदिर में राजा और रंक बराबर होने चाहिए।  
मंदिर में किसी से धन की मांग नहीं होनी चाहिए।  
मंदिर में मनुष्य अपनी हैसियत और श्रद्धा से दान करेगा लेकिन किसी प्रकार की कीमत नहीं होनी चाहिए।  
 
मंदिर का बस एक ही लक्ष्य होना चाहिए की मंदिर में आकर किसी भी भक्त की भक्ति और उसकी श्रद्धा में कोई भी कमी न आने पाए और जीवन में शांति ही शांति रहे।  
 
 
August 27/17, 12:30 PM
 
धार्मिक या आध्यात्मिक?
 
मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़, हाथ में फूलो की माला, नारियल, लड्डू, अगरबत्ती लिए खड़े है लेकिन वो ये नहीं जानते की यहाँ क्यों आये है।  
सबके ह्रदय में बस एक ही भाव होता है की प्रभु के मंदिर में आये है और मन में कोई कामना है और जो भी सामग्री हाथ में लिए खड़े है, ये प्रभु के नाम से अर्पण करके उनके सामने सर झुका जायेंगे तब सभी पाप भी कट जायेंगे और सोचा कार्य भी पूरा हो जायेगा।  
 
क्या ऐसा हुआ है? जो होना था वो तो संघर्ष से, अपनी स्वयं की मेहनत से हुआ और प्रभु की कृपा के बिना तो कुछ भी संभव नहीं था।  कहने का तात्पर्य यह है की प्रभु के लिए भाव जो है उसके साथ साथ अपना कर्म करना जरुरी है।  तभी कार्य पूर्ण होता है।  अपना कर्म नहीं करेंगे और सफलता नहीं मिलती तब हम प्रभु को दोष देना आरम्भ कर देते है।  तब हम अपनी की गयी पूजा में दोष निकालते है।  हम स्थान को बुरा भला कहते है।  
 
किसी भी पूजा के पीछे हमारा भाव यह होना चाहिए की प्रभु मुझे सत बुद्धि मिले जिससे मैं अपने कार्य को अच्छे से कर सकू।  उसके पीछे यह भाव होना चाहिए की प्रभु की भक्ति से हम कभी दूर न जाये। सफलता मिले या असफलता मिले, प्रभु के विश्वास में कोई भी कमी न आने पाए।  
 
मंदिर जाने से पहले यह भी एक बार देख ले की आपकी जो जिम्मेदारियां थी क्या उसको अपने निभाया है।  घर में अगर बुजुर्ग माता पिता है, अगर वो शारीरिक  कमज़ोर है और आप पर निर्भर है तो क्या अपने उनके कार्य को पूर्ण किया है पहले।  क्या उनको भर पेट खाना दिया है।  अगर परिवार के सदस्य को नज़र अंदाज कर के प्रभु के मंदिर में जाते है तो प्रभु को भी ख़ुशी नहीं मिलती है।  क्यों की अगर हमने घर को अपना मंदिर नहीं बनाया और उस घर में रह रहे जितने भी सदस्य है पहले उनके अंदर बैठे प्रभु को नहीं पहचाना तो बाहर मंदिर जाना व्यर्थ है।  
 
इस बात का जरूर ध्यान रखे।  पहले आध्यात्मिक बनिए फिर धार्मिक क्रिया को करिये।  तभी उसका लाभ आपको मिलेगा, आपसे जुड़े सभी सदस्यों को मिलेगा और इस संसार को भी उसका लाभ मिल सकता है।  आध्यात्मिक मनुष्य जनहित के लिए सोचता है और धार्मिक मनुष्य स्वार्थी होता है।  स्वार्थी मनुष्य कभी भी प्रभु की भक्ति को प्राप्त नहीं कर सकता।  
 
धार्मिक लोग गलत साधनो के साथ जुड़ कर अंधविश्वासी होते है और आध्यात्मिक लोग प्रभु में विश्वास रखते है।  
धार्मिक लोग तांत्रिक विद्या में विश्वास रखते है। आध्यात्मिक लोग कर्म करते हुए सत्य के मार्ग विश्वास रखते है।  
धार्मिक लोग तंत्र, मंत्र, वास्तु, ज्योतिषी, इन सभी साधनो का सहारा लेते है। आध्यात्मिक लोग एकमात्र प्रभु का सहारा लेता है।  
धार्मिक लोगो को प्रभु में विश्वास होने के लिए चमत्कारों की जरुरत होती है। आध्यात्मिक लोगो के लिए प्रभु का बनाया ये संसार और हमारा शरीर ही एक चमत्कार है।  
धार्मिक लोग पूजा पाठ एक दिखावे और स्वार्थ के लिए करते है। आध्यात्मिक लोग पूजा पाठ स्वयं और संसार के हित के लिए करते है।  
धार्मिक लोगो में अहंकार प्रधान होता है। आध्यात्मिक लोग नम्र होते है।   
धार्मिक लोगो के लिए ये संसार एक कर्म योग का साधन है। आध्यात्मिक लोगो के लिए संसार भक्ति  योग का साधन है।  
 
 
August 27/17, 11:57 AM
 
नक़ल में अकल चाहिए - वैलेंटाइन डे का महत्व 
 
हमारे भारत देशवासी नक़ल में बहुत आगे है। धर्म के नाम पर कट्टर भारतवासी जब किसी विदेशी देश में मनाये जाने वाले त्यौहार को मनाते है तब ये नहीं सोचते की वो क्या करने जा रहे है।  
 
किसी दूसरे देश के त्यौहार को आदर देने के भाव से अगर मना रहे है तब तो बात समझ आती है।  लेकिन इसलिए मना रहे है क्यों की उसमे उनको आनंद आता है और उससे वे अपने आपको आधुनिक माने जाते है तो कोई भी त्यौहार मनाने से पहले उसका महत्व को जानना बहुत जरुरी है फिर निश्चय करे की मनाना है की नहीं।  
 
यहाँ पर मैं बात करने जा रही हु "वैलेंटाइन डे" जो १४ फरवरी को आजकल सभी धर्म के लोग संसार में मना रहे है।  उस त्यौहार में प्रेमी प्रेमिका बहुत लाभ उठाते है और वो ये समझते है की जैसे ये दिवस उनके लिए ही बनाया गया है।  इसका महत्व जान के बाद सोचिये की आप क्या कर रहे है।  
 
एक रोमन राजा क्लॉडियस २७० ए..ड में हुआ करता था।  उसके राज्य में पुरुष किसी महिला के साथ में दुराचार कर सकता था।  शादी का प्रचलन नहीं था।  और औरतो का शोषण हुआ करता था।  कितने भी व्यक्ति एक महिला के साथ गलत व्यवहार करते थे।  ये सब देख कर एक चर्च के पादरी जिनका नाम था वैलेंटाइन, उन्होंने लड़के और लड़कियों को समझाना शुरू किया और उनकी आपस में शादी करनी शुरू कर दी थी।  राजा ने संत वैलेंटाइन को जेल में डाल दिया।  संत वैलेंटाइन अंधे थे और उनकी बेटी को जेल में मिलने के लिए अनुमति दी गयी थी।  बेटी उनके लिए एक गुलाबी रंग का सेब फल उनके लिए लेकर आती थी जो बेटी और पिता के प्यार का प्रतिक बन गया क्यों की संत वैलेंटाइन को गुलाबी रंग वाले सेब पसंद थे।  जब पिता की मृत्यु होने वाली थी तब बेटी ने फैसला किया था की वो अपनी आँखे अपने पिता को देना चाहती है जिससे मरने से पहले पिता अपनी बेटी को एक बार देख सके।  और ऐसा ही हुआ और पिता ने अपनी बेटी को देखा और मृत्यु को प्राप्त हो गए लेकिन मरने से पहले एक चमत्कार कर गए।  क्यों की वो एक सच्चे संत थे उन्होंने भगवान् से प्रार्थना की और बेटी को आशीर्वाद दिया की बेटी की आंखे वापिस आ जाये।  और ऐसा ही हुआ।  ऐसा अनोखा बेटी और पिता का प्यार आज वैलेंटाइन डे के रूप में मनाया जाता है।  उस दिन संत वैलेंटाइन को याद किया जाता है।  
 
किसी भारतवासी को नहीं पता की अनजाने में वे सभी संत वैलेंटाइन को पूज रहे है।  उनको आदर दे रहे है।  लेकिन इसकी आड़ में इस शुभ दिन को गन्दा न बनाइये।  लड़के और लड़किया अपने माता पिता के प्रति प्यार प्रकट नहीं करते और एक दूसरे के साथ ही खुश रहते है।  
 
कृपया करके किसी भी दिवस के महत्त्व को जानकार ही कोई कार्य करे।  और उसकी महत्वता बनाये रखे, शुद्धता बनाये रखे।  अपने स्वार्थ के लिए और अपने आनंद के लिए उसको दूषित न करे।  
 
 
August 26/17, 11:52 PM
 
ज्ञान किसको बांटना चाहिए? 
 
ज्ञान बांटने की वस्तु नहीं है। 
जिज्ञासु ज्ञान की तरफ स्वयं आकर्षित होता है।  
अहंकारी ज्ञानी से दूर रहता है।  
अहंकारी ज्ञानी के साथ वाद विवाद में उलझ जाता है।  
मुझमे ज्ञान नहीं है, इतना कहने के लिए भी बहुत ज्ञान की आवशयकता है।  
 
 
August 26/17, 11:50 PM
 
संसार में सबसे दुखी इंसान कौन है? 
 
जो दूसरे को खुश देख कर खुश नहीं होता है। 
 
 
August 26/2017, 11:35 PM
 
प्रभु का प्यारा भक्त कौन है? 
 
जो दूसरे को खुश देख कर खुश होता है। दूसरे का दुःख देख सुन कर जिसके आँख में ऑंसू आ जाते है।  
 
 
August 26/2017, 11:25 PM
 
मानसिक दुर्बल कौन होता है? 
 
जो दिमाग से कमज़ोर होते है, ऐसे लोग प्रभु के विश्वास के लिए दूसरी शक्तियों का सहारा लेते है। प्रभु की भक्ति के लिए और प्रभु में विश्वास स्थापित करने के लिए किसी के सहारे की जरुरत नहीं है।  उसके लिए अपने ह्रदय के भाव और मन की शांति की जरुरत है। 
 
इस संसार में कोई भी इंसान और कोई भी साधन प्रभु से ऊपर नहीं है। इसलिए किसी और को अपना सहारा न बनने दे और स्वयं प्रभु को ही अपना सहारा बनाये।